लॉकडाउन के हालातों के बीच स्टार्टअप जगत के लिए एक अच्छी खबर है। दरसल पिछले कुछ सालों में तेजी से विकास करते हुए भारत की सबसे लोकप्रिय फिनटेक कंपनियों में से एक, Khatabook ने $60 मिलियन डॉलर का निवेश हासिल करने का ऐलान किया है।

इस डिजिटल बुक-कीपिंग और लेज़र प्लेटफ़ॉर्म ने यह निवेश मुख्य रूप से Eduardo Saverin’s B Capital Group द्वारा हासिल किया है। और अब इस नए निवेश के बाद इस दो साल पुरानी कंपनी द्वारा हासिल की गयी कुल निवेश राशि $87 मिलियन तक हो गयी है।

इस बीच भले आधिकारिक रूप से अभी तक Khatabook की वैल्यूएशन का कोई प्रमाण सामनें नहीं आ सकता हो, लेकिन इस नए निवेश के बाद कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस स्टार्टअप की वैल्यूएशन $275-$300 मिलियन तक पहुँच गयी है। हालाँकि अन्य निवेश दौरों को भी लें तो कंपनी के निवेशकों की लिस्ट में Sequoia Capital, and Partners of DST Global, Tencent, GGV Capital और RTP Global व अन्य एंजेल निवेशकों के नाम भी शुमार हो जाते हैं।

इस बीच इसको लेकर Khatabook के सीईओ, रवीश नरेश ने कहा;

“भारत की छोटी दुकानों को नयी सुविधाओं से लैस करने के नजरिये से शुरू किया हमारा प्लेटफार्म, आज हमें इस छोटे क्षेत्र का डिजिटलीकरण करने वाले सबसे बड़े खिलाड़ी के रूप में पेश करता है, वह छोटा क्षेत्र जो असल में हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है।”

“हम अपने बाजार नेतृत्व को और मजबूत करने के लिए सरकार व वित्तीय संस्थानों के साथ मिलकर काम करना चाहतें हैं ताकि MSMEs को और अधिक कुशल और प्रतिस्पर्धी बनाते हुए उनकी आय बढ़ाने में उन्हें मदद करते रह सकें।”

जाहिर है Khatabook के लिए यह नया निवेश काफी महत्वपूर्ण समय में आया है। दरसल भारत के व्यापारी और ज्यादातर छोटे स्टोर्स वास्तव में कभी भी अपने को पूरी तरह डिजिटल नहीं बना सकें हैं। आज भी भारत के रिटेल चेन में एक बड़े हिस्से को डिजिटाइज़ करने की संभावनाएं भरी हुई हैं और खासकर आज जब स प्रयास किए गकोरोना वायरस के चलते विश्व भर की अर्थव्यवस्था और सभी प्रकार के भौतिक लेन-देन बड़े पैमानें पर प्रभावित हुयें हैं, तो ऐसे में इन इन छोटे व्यापारियों को डिजिटल सुविधाओं को अहमियत समझाते हुए विकास करने के लिए Khatabook के पास यह एक बहुमूल्य समय है।

आपको बता दें Khatabook का दावा है कि इसके पास वर्तमान में 100 मिलियन से अधिक सक्रिय व्यापारी वर्ग है और अब तक कंपनी ने $180 बिलियन से अधिक मूल्य के लेनदेन रिकॉर्ड किए गए हैं। जाहिर तौर पर यह आंकड़े कंपनी को इओस क्षेत्र का एक बड़ा खिलाडी साबित करते हैं।

इतना ही नहीं बल्कि AppAnnie के डेटा से पता चलता है कि Khatabook के ऐप में 910,000 दैनिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं, जो Paytm के मर्चेंट ऐप से लगभग दोगुनी संख्या है।

जाहिर है की इस नए निवेश के साथ Khatabook खुद के उत्पाद लाइन-अप में विस्तार करने के साथ ही साथ मौजूदा सेवाओं को बेहतर बनानें और तकनीक सुधारों में निवेश बढ़ाएगा।

और संभावना यह है कि कंपनी लेडिंग (उधार) क्षेत्र में भी कदम रख सकती है। दरसल हाल ही में कंपनी उन कुछ चुनिंदा नयी कंपनियों में से एक रही, जिसने NBFC लाइसेंस के लिए आवेदन किया था।

आपको बता दें NBFCs मूल रूप से छोटे व्यवसायों के लिए उधार देते हैं, जो बेशक Khatabook की मौजूदा सेवाओं के साथ एक और शानदार बिज़नेस मॉडल बनानें में मदद कर सकता है।