uber-india-asks-drivers-to-ensure-seatbelts-on-back-seats-work

भारत में चल रहे लॉकडाउन के तीसरे चरण में सरकार द्वारा थोड़ी राहत देने के बाद Uber के सीईओ Dara Khosrowshahi ने बताया कि कंपनी ने भारत के 733 जिलों में से करीब 80% ग्रीन और ऑरेंज जिलों में अपना संचालन वापस शुरू कर दिया है।

लेकिन इस बीच उन्होनें एक अहम बात यह मानी कि अभी कुछ समय तक देश और विश्व भर में Uber बुकिंग धीरे धीरे ही सामान्य आंकड़े पर पहुंचेंगी। इकॉनोमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार Dara Khosrowshahi ने कहा;

“हम ऐसा मान कर ही चल रहें हैं कि रिकवरी भौगोलिक स्थितियों के आधार पर अलग-अलग रफ़्तार में ही होगी, और इसके बारे में अभी भी कुछ स्पष्ट रूप से नहीं कहा जा सकता है।”

“COVID-19 के चलते अप्रैल से ही दुनिया भर में बाजार लगभग 80% नीचे आ गया था। हालाँकि अब माहौल में थोड़ी राहत आने के बाद पिछले तीन हफ्तों से वैश्विक स्तर पर सप्ताह दर सप्ताह वृद्धि दर्ज की जा रही है।”

आपको बता दें 3 मई से Uber नें गुड़गांव, मैंगलोर और कोच्चि सहित 21 ग्रीन और ऑरेंज क्षेत्रों में अपनी सेवाएं वापस से शुरू कर दी थीं।

आपको बता दें देश में Uber के सबसे बड़ी प्रतिद्वंदी Ola ने भी हाल ही में यह जानकारी दी थी कि कंपनी ने 100 से अधिक भारतीय शहरों में अपना परिचालन फिर से शुरू कर दिया है, और जाहिर है यह सभी शहर ऑरेंज या ग्रीन जोन में आतें हैं।

दरसल मुख्य परेशानी यह है कि इन कैब सेवा प्रदाताओं के लिए राजस्व का मुख्य सोर्स रहने वाले देश के बड़े शहरों में से अधिकांश अभी भी रेड जोन में आते हैं और इसलिए यह कंपनी अभी वहां अपना संचालन शुरू नहीं कर पा रहीं हैं।

इस बीच रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च में समाप्त तिमाही में Uber का राजस्व 14% बढ़कर सालाना $3.54 बिलियन का हो गया है। लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इसी अवधि के दौरान कंपनी ने $2.9 बिलियन का नुकसान भी दर्ज किया है।

इसके साथ ही Uber ने इस साल की शुरुआत में Zomato को अपने फ़ूड डिलीवरी व्यवसाय UberEats India की बागडोर सौंप दी थी। कंपनी ने UberEats के लगातार भारी नुकसान सहने के चलते यह फैसला लिया था।

इस बीच कई रिपोर्ट्स नियामक फाइलिंग का हवाला देते हुए बताती हैं कि मार्च में Uber ने अपनी भारतीय फ़ूड डिलीवरी इकाई UberEats India को $206 मिलियन में अपनी ही प्रतिद्वंद्वी कंपनी Zomato को 9.99% हिस्सेदारी के बदले बेच दिया था।