jio-down-call-and-sms-services-not-working-for-several-users

Jio के आने के बाद, कई बार आपने लोगों को कहतें सुना होगा, ‘Reliance जो न करें वो कम!’ और शायद अब कंपनी इसको एक बार फिर से सही साबित कर रही है।

दरसल जहाँ कोरोनो वायरस महामारी के समय में देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में आर्थिक स्थिति ख़ासकर निवेश आदि जैसे रुक से गये हैं, वहीँ Reliance है कि निवेश हासिल करने के मामलें में रुकने का नाम ही नहीं ले रहा। वह भी निवेश की राशि ऐसी जो किसी को भी चौंका दें।

दरसल Jio के टेलीकॉम और डिजिटल कारोबार की आधिकारिक कंपनी Jio Platforms ने आज एक बार फिर से निवेश हासिल करने का ऐलान किया है। यह निवेश कंपनी को Vista Equity Partners द्वारा मिला है, जिसनें $65 बिलियन की वैल्यूएशन में कंपनी में $1.5 बिलियन का निवेश किया है।

दरसल हाल ही में प्राप्त सभी निवेश Jio के नए फंड-राउंडिंग का एक हिस्सा हैं, जिसके तहत कंपनी की योजना Jio Platforms में करीब कुल 20% की हिस्सेदारी बेचने की है। आपको बता दें Vista Equity Partners ने इस निवेश के तहत Jio Platforms में 2.32% की इक्विटी हिस्सेदारी हासिल की है।

और इस प्रकार यह निजी इक्विटी फर्म को Reliance Industries और Facebook के बाद Jio Platforms में फ़िलहाल सबसे बड़ी व्यक्तिगत शेयरधारक बन गयी है। आपको बता दें इस निवेश के बाद अब तक Jio Platforms ने पिछले तीन हफ्तों में कुल मिलाकर $8.2 बिलियन (60,596.37 करोड़ रूपये) का निवेश हासिल कर लिया है।

असल में Vista Equity Partners भी एक जाना माना नाम है और कंपनी विश्व स्तर पर करीब $57 बिलियन से अधिक की संपत्ति का प्रबंधन करती है और इसकी नेटवर्क कम्पनियां सामूहिक रूप से मार्केट वैल्यू के आधार पर दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी का दर्जा रखती हैं।

इस बीच इस नए निवेश के बाद Reliance Industries के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा,

“हमारे अन्य भागीदारों की तरह, Vista भी हम साथ सभी भारतीयों के लाभ और भारतीय डिजिटल तंत्र को विकसित करने व बदलने की सामान सोच साझा करता है। कंपनी का मानना है कि टेक्नोलॉजी की परिवर्तनकारी शक्ति हम सभी के बेहतर भविष्य की चाभी है।”

दरसल Vista का यह निवेश ऐसे वक़्त में आया है जब करीब दो हफ्ते पहले ही $58 बिलियन की वैल्यूएशन पर Facebook ने Jio Platform  में $5.7 बिलियन में 9.99% की हिस्सेदारी खरीदी और उसके बाद ही Silver Lake ने भी $65 बिलियन डॉलर की वैल्यूएशन में 1% की हिस्सेदारी खरीदते हुए $748 मिलियन का निवेश किया।

इस बीच बता दें हाल ही में हुई तिमाही राजस्व कॉल में मुकेश अंबानी ने अपनी मंशा जाहिर करते हुए साफ़ कर दिया था कि वह Jio के लिए निवेश रास्ते कंपनी में 20% तक की हिस्सेदारी बेच Reliance Industries के लोन को कम करने की कोशिश करेंगें।