flipkart-xtra-app-to-onboard-part-time-job-seekers

भारत की स्थानीय ई-कॉमर्स दिग्गज कंपनी Flipkart ने आज एक अहम कदम उठाते हुए Flipkart के चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर (CFO) के रूप में ‘श्रीराम वेंकटरमन’ की नियुक्ति का ऐलान किया।

दरसल ध्यान देने वाली बात यह है कि कंपनी ने श्रीराम वेंकटरमन’ को Flipkart Commerce (फ्लिपकार्ट और Myntra) के CFO का पदभार सौंपा है और तत्काल प्रभाव से उनकी नियुक्ति कर दी है।

आपको बता दें अपनी इस नयी भूमिका में श्रीराम अब Flipkart और Myntra के चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर के रूप में टैक्स, रिस्क मैनेजमेंट और ट्रेजरी जैसे कार्यों की जिम्मेदारी निभायेंगें। इसके साथ ही साथ वह Flipkart के कॉर्पोरेट विकास की जिम्मेदारी निभाते हुए खरीद, योजना, विश्लेषण व निर्णय आदि के लिए भी वह जवाबदेही तय करते नजर आयेंगें।

दरसल यह फ़ैसला तब लिया गया है जब सितंबर 2018 से Flipkart Group के CFO रही Emily McNeal ने अब वापस अमेरिका जाकर Walmart Group से अलग कैरियर के अवसर तलाशने का फैसला लिया।

इस दौरान कंपनी ने इस महत्वपूर्ण बदलाव पर बोलते हुए, Flipkart Group के CFO, कल्याण कृष्णमूर्ति द्वारा कहा गया कि,

“हम Emily McNeal को अब तक के उनके नेतृत्व, जिम्मेदारियों और कंपनी प्रक्रिया को मजबूत बनाने में मार्गदर्शन आदि के लिए धन्यवाद देते हैं। उन्होनें अब तक कंपनी के भीतर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और हमारे हाइपरलोकल व ताजा फ़ूड डिलीवरी क्षमताओं को बढ़ानें के लिए जरूरी निवेश लाने में भी अहम योगदान दिया।”

“वहीँ श्रीराम ने भी लगातार Flipkart में कई स्तरों पर अपनी काबिलियत साबित की है और वह Flipkart Commerce CFO के रूप में अब नयी जिम्मेदारी निभाने के लिए पूरी तरह से योग्य हैं। मैंने श्रीराम और Emily दोनों को उनकें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूँ।”

इस बीच आपको बता दें श्रीराम अब कंपनी में Walmart International के उपाध्यक्ष और CFO Chris Nicholas को रिपोर्ट करेंगें।

इसके साथ ही उपाध्यक्ष और ग्रुप कंट्रोलर Dawn Marie Ptak भी फ़िलहाल Flipkart, Myntra और PhonePe की ग्रुप कंट्रोलरशिप और डिवीजनल कंट्रोलरशिप कार्यों के लिए जिम्मेदारी निभाते रहेंगें और वह Walmart International के अंतर्राष्ट्रीय कंट्रोलर को रिपोर्ट करेंगें।

फ़िलहाल देश और दुनिया में महामारी के हालातों को देखे हुए Flipkart और अन्य सभी ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए परेशानी बनी हुई है, लेकिन इतना जरुर है कि भारत में अब ऑरेंज और ग्रीन जोन में इन कंपनियों को अपने सामान्य संचालन की इजाजत मिल गयी है।