paytm-denies-reports-of-data-leak-to-china-firms

मौजूदा हालातों में कुछ अटकलों ने स्टार्टअप जगत में रोमांच बनाये रखा है। और अब ऐसी ही एक खबर और आई है, जिसके अनुसार भारत के लोकप्रिय डिजिटल पेमेंट स्टार्टअप Paytm द्वारा अमेरिकी तकनीकी दिग्गज Microsoft से नया निवेश मिल सकने की अटकलें लगाई जा रहीं हैं।

दरसल इकॉनोमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में यह सामने आया है कि मामलें के जानकार कुछ सूत्रों के अनुसार Paytm फ़िलहाल पेमेंट क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा में अपनी जगह बनाये रखने और आगे बढ़ने के लिए Microsoft से ताज़ा निवेश हासिल कर सकने को बातचीत के दौर में है।

सूत्रों के हवाले से इस रिपोर्ट में सामने आई जानकारियों की माने तो Paytm असल में Microsoft से करीब $100 मिलियन (760 करोड़ रुपये) का निवेश हासिल करने को लेकर बातचीत कर रहा है। दिलचस्प यह है कि इसको Paytm द्वारा पिछले साल घोषित किये गये $1 बिलियन (7,600 करोड़ रुपये) का निवेश हासिल करने की योजना के विस्तार के रूप में देखा जा रहा है।

आपको बता दें कंपनी की उस $1 बिलियन के निवेश संबंधी योजना के तहत नवंबर 2019 में नोएडा आधारित Paytm ने अमेरिका की T.Rowe Price से कंपनी में एक नए निवेशक के रूप में $150 मिलियन (1,140 करोड़ रूपये) हासिल किये थे।

खास यह था कि Paytm ने यह निवेश $16 बिलियन की वैल्यूएशन पर हासिल किया था। हालाँकि अभी भी नियामक फाइलिंग के हवाले से इस दौर में कंपनी द्वारा हासिल की गयी कुल निवेश राशि के खुलासे का इंतजार किया जा रहा है।

सूत्रों की माने तो भले उस वक़्त भले ही Paytm द्वारा फंड हासिल करने के बीच Microsoft से निवेश संबंधी बातचीत सफ़ल न रही हो, लेकिन अब कंपनी शायद इस भारतीय स्टार्टअप में निवेश कर सकती है।

लेकिन दिलचस्प रूप से Paytm द्वारा एक अधिकारिक बयान में कहा गया कि अभी कंपनी किसी भी तरह की संभावनाओं को लेकर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती। साथ ही साथ Microsoft ने भी अभी किसी भी प्रकार की अटकलों पर मोहर लगाने से इंकार किया है।

इस बीच हम आपको याद दिला दें कि पिछले साल नवंबर में ही Paytm ने नए शामिल हुए T.Rowe Price के नेतृत्व में मौजूदा निवेशकों Ant Financial और SoftBank Vision Fund के जरिये $1 बिलियन का निवेश हासिल किया था।

पर ध्यान देने वाली बात यह है कि नियामक फाइलिंग की मानें तो अब तक उस निवेश से सिर्फ $720 मिलियन (5,472 करोड़ रूपये) ही Paytm को प्राप्त हुए हैं।  और हमनें इसलिए इसको प्रमुखता से बताया क्योंकि भारत सरकार द्वारा हाल ही में जारी किये गये नए FDI नियमों के बाद अब Alibaba की ही Paytm में सबसे अधिक हिस्सेदारी रखने वाली इकाई Ant Financial को आगे का निवेश करने के लिए सरकार की मंजूरी की आवश्यकता होगी।

अब देखनें वाली बात यह है कि पिछले कुछ समय से भारतीय बाज़ार में निवेश के लिहाज़ से काफी दिलचस्पी प्रदर्शित करने वाली Microsoft क्या इन अटकलों को भी सही साबित करती है या नहीं?

आपको बता दें 2017 में Microsoft ने Flipkart पर भी दांव लगाया था और साथ ही कंपनी Ola के साथ भी निवेश सभी चर्चा में रही थी।

इतना ही नहीं बल्कि कंपनी ने पिछले साल अगस्त में अपने क्लाउड कारोबार Azure के लिए Reliance Jio के साथ भागीदारी भी की थी।

विशेषज्ञों की माने तो Microsoft असल में भारतीय स्टार्टअप्स और तकनीकी कंपनियों के साथ यह साझेदारियाँ इसलिए भी कर रहा है ताकि कंपनी अपने क्लाउड सर्विस को प्रमुखता से भारत में पेश कर सके।

और इसके साथ ही मिक्रोसोफत भारतीय क्लाउड जगत में एक बड़ी हिस्सेदारी रखने वाले Amazon के Amazon Web Services को भी कड़ी टक्कर दे सके। दिलचस्प यह है कि Paytm फ़िलहाल AWS क्लाउड सेवाओं का ही उपयोग करता है।

लेकिन अगर यह डील होती है तो Paytm को Microsoft के जरिये कनेक्टिविटी, कंप्यूटिंग और स्टोरेज आदि को लेकर भी काफी लाभ मिलेगा।

और यह सब इसलिए भी जरूरी हो जाता है क्योंकि फ़िलहाल भारत में Paytm के लिए Google Pay ऑनलाइन UPI भुगतानों में Paytm को बड़ी चुनौती दे रहा है।Google Pay ने फ़िलहाल PhonePe और Paytm जैसे प्रतिद्वंद्वियों से यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के मामले में काफ़ी बढ़त बना ली है ।