google-announces-rs-113-cr-grant-for-80-oxygen-plants-upskilling-in-india

Google की पैरेंट कंपनी Alphabet Inc. ने साल 2020 की शेष अवधि तक के लिए कंपनी की भर्ती प्रक्रिया को धीमा करने का फैसला किया है। इस बात की जानकारी Bloomberg में प्रकाशित एक रिपोर्ट के जरिये हासिल की गयी।

दरसल स्वाभाविक रूप से दुनिया भर में फैली COVID-19 महामारी के चलते पैदा हुए हालातों ने इस दिग्गज टेक कंपनी के विज्ञापन बिज़नेस को भी बुरी तरह प्रभावित किया है। जिसके चलते कंपनी अब अपनी आर्थिक स्थिति को सँभालने के लिए हर जरूरी कदम की ओर रुख कर रही है।

बता दें कंपनी के सीईओ सुंदर पिचाई ने बुधवार को एक ईमेल के जरिये अपने कर्मचारियों को इस फैसले की जानकारी दी। उन्होंने साफ़ तौर पर लागत में कटौती को इसकी वजह बताया और कहा कि कंपनी डेटा सेंटरों और मशीनों को पुनः व्यवस्थित करने पर ध्यान देगी और साथ ही साथ गैर-व्यवसायिक आवश्यकताओं जैसे मार्केटिंग और ट्रेवल में भी कटौती करेगी।

सुंदर पिचाई ने इस मेल में लिखा कि;

“मौजूदा हालातों में पूरी वैश्विक अर्थव्यवस्था पर भारी प्रभाव पड़ा है, और Google या Alphabet भी इससे अछूते नहीं हैं। हमारे साझेदार और परस्पर व्यवसाय तंत्र भी काफ़ी मुश्किल दौर से गुजर रहें हैं।”

इस बीच रिपोर्ट के मुताबिक Google के एक प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि कंपनी कुछ रणनीतिक क्षेत्रों में कम संख्या में भर्तियाँ जारी रखने के साथ ही साथ उन लोगों को भी काम कर रखेगीं, जिन्हें ऑन-बोर्ड तो कर लिया गया था लेकिन उन्होनें अभी तक काम नहीं शुरू किया था।

आपको बता दें कि 2019 के अंत तक Alphabet के कुल फुल-टाइम कर्मचारियों की संख्या करीब 118,899 होने का दावा किया गया था।

इस बात में तो कोई शक नहीं कि Google जैसी दिग्गज कंपनी का यह ऐलान COVID-19 की वजह से दुनिया भर की अर्थव्यवस्था में पड़े नकारात्मक प्रभाव को साफ़ जाहिर करता है और कहीं न कहीं आर्थिक मंदी जैसे हालातों का संकेत भी देता है।

आपको बता दें Business Insider की एक रिपोर्ट को आधार माने तो दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनियों में से एक  Microsoft Corp. ने भी हाल ही में कुछ भर्तियों पर रोक लगाई हुई है।

हालाँकि इतना जरुर है कि हजारों कमर्चारियों की छटनी करने वाले स्टार्टअप्स की तुलना में, Google करीब करीब अपने सभी कर्मचारियों को आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन बेशक कंपनी के राजस्व में लगातार आ रही गिरावट इसके लिए परेशानी का सबब बनती जा रही है।

दरसल जब दुनिया भर में लगभग सभी प्रकार के व्यवसाय लगभग ठप पड़ें हैं, तो ऐसे में उनके द्वारा विज्ञापनों आदि कर पैसा भी नहीं खर्च किया जा रहा है, और इसलिए Google के विज्ञापन राजस्व में भारी गिरावट दर्ज की जा रही है।

बुधवार को विस्तारित कारोबार में Alphabet के शेयर 1% से कम तक फिसल गए। असल में कंपनी के शेयर न्यूयॉर्क में $1,257.30 पर बंद हुए, जो इस साल करीब 6% तक नीचे आ गये हैं।

कोरोना वायरस के इस संकट की शुरुआत हुई थी तो Google ने अनुदान और ग्राहक क्रेडिट के रूप में $800 मिलियन की पेशकश के साथ ही साथ स्कूलों में 4,000 से अधिक Chromebook लैपटॉप दान किए थे।

कंपनी ने वैश्विक रूप से कर्मचारियों से मार्च में घर से ही काम करने को कहा था और साथ ही अपने कार्यालयों में काम करने वाले कॉन्ट्रैक्ट आधारित कर्मचारियों के वेतन और लाभ को भी कवर करने का ऐलान किया था। इतना ही नहीं कंपनी ने अब तक किसी भी तरह की छटनी का ऐलान नहीं किया है।