paytm-board-clears-ipo-plan-may-file-before-november

वैसे इस बात में कोई शक नहीं है कि Paytm भारत के उन शुरुआती स्टार्टअप्स में से एक है, जिन्होंने डिजिटल वित्तीय क्षेत्र में काफ़ी तेजी से अपनी जगह बनाने में कामयाबी हासिल की।

कभी एक वॉलेट कंपनी के रूप में शुरू किया गया Paytm, तेजी से निवेशकों का भरोसा जीत कर बड़े निवेश हासिल करता रहा और काफी कम समय में ही खुद को एक पूर्ण डिजिटल वित्तीय सेवा समूह के रूप में स्थापित कर दिया।

दरसल आप अगर पारंपरिक वित्तीय संस्थानों को देखेंगें तो आपको भी Paytm का यह तेज विकास काफी चौंकता नज़र आ सकता है।

लेकिन Paytm और उस वक़्त शुरू हुए कई स्टार्टअप्स को लेकर एक सवाल हमेशा पूछा जाता रहा है, और लोगों का ध्यान भी खींचता रहा है, वह है इन स्टार्टअप के लाभप्रदता यानि कमाई से जुड़ा।

जी हाँ! Flipkart के एक अप्रत्याशित अधिग्रहण के अलावा अन्य कई ऐसे स्टार्टअप्स हैं, जो आज भी खुद को लाभ में लाने के लिए संघर्ष कर रहें हैं। दरसल उनमें से एक नाम Paytm भी है, जिसके आँकड़ो से साफ़ नज़र आता है कि Paytm के घाटे आज भी लगातार बढ़ रहें हैं।

आपको बता दें Paytm की पैरेंट कंपनी One97 Communications ने वित्त वर्ष 2019 में 4,217 करोड़ रूपये का घाटा दर्ज किया था, वहीं इसके राजस्व में 3,309 करोड़ रूपये 3,579 करोड़ रूपये की तुलनात्मक रूप से मामूली वृद्धि ही देखने को मिली थी।

लेकिन इसी बीच कंपनी के IPO फाइलिंग को लेकर भी कई अटकलें सामने आने लगी हैं। एक ओर जहाँ बहुत से कंपनी के भारत या विदेश में IPO फाइल करने की चर्चा कर रहें हैं। वहीँ अब हम आपके लिए सीधे Paytm के संस्थापक विजय शेखर शर्मा के जरिये हासिल हुए कुछ इनपुट लेकर आयें हैं।

दरसल हाल ही में Business Insider और Observer Research Foundation (ORF) द्वारा आयोजित एक लाइव Twitter सेशन में विजय शेखर शर्मा ने Paytm की IPO संबंधी योजनाओं पर कुछ प्रकाश जरुर डाला है।

दिलचस्प रूप से यह बात सामने आई है कि Paytm की मूल कंपनी की तुलना में इसकी सहायक कंपनियों को IPO के लिहाज़ से पहले सूचीबद्ध किया जा सकता है।

दरसल इस लाइव सेशन में विजय शेखर शर्मा ने कहा;

“Paytm फ़िलहाल सूचीबद्ध नहीं हो सकता है, लेकिन इसकी सहायक/संबद्ध कंपनियां शायद जल्द ही सूचीबद्ध होते नज़र आयें। बैंक, कॉमर्स, गेमिंग सभी Paytm के ही उत्पाद हैं। दरसल हमारा बैंकिंग व्यवसाय जो मूलतः अपने डिजाइन की वजह से लाभदायक हैं, वह एक निश्चित राजस्व के बाद सूचीबद्ध होने के लिए बाध्य हो ही जाएगा।”

दरसल यह स्वाभाविक रूप से संभव भी लगता है। दरसल Paytm मौजूदा समय में अपने नौ अलग-अलग वर्टिकल का संचालन कर रहा है। इनमें Paytm Payments Bank, Paytm Money, Paytm Games, और Paytm Mall शामिल हैं। और भले पैरेंट कंपनी लाभप्रद होती न नज़र आये, लेकिन इसकी कुछ सहायक कंपनियां बेशक आगामी समय में लाभ अर्जित करती नज़र आ सकती हैं।

इस बीच Paytm के सबसे ताज़ा आंकड़ों को देखें तो कंपनी 5.5 बिलियन के कुल लेनदेन के माध्यम से $50 बिलियन मूल्य के लेनदेन करने का दावा करती है। साथ ही खबर यह है कि कंपनी ने वित्त वर्ष 2020 तक इस लेनदेन के आँकड़े को 12 बिलियन तक करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।