दुनिया भर के साथ ही साथ भारत में भी मौजूदा हालत बिज़नेस और स्टार्टअप के लिहाज़ से बिल्कुल भी अच्छे नहीं कहे जा सकतें हैं। जहाँ देश में लॉकडाउन के चलते अधिकतर व्यवसायों की कमर सी टूट चुकी है, वहीं ई-कॉमर्स और ऑनलाइन डिलीवरी व्यवसाय भी कमर्चारियों की कमी और अन्य कारणों के चलते खासी परेशानी का सामना करते नज़र आ रहें हैं।

लेकिन इन सब हालातों के बीच में स्टार्टअप जगत को राहत देने वाली कुछ खबरें भी आ रहीं हैं। दरसल इकोनॉमिक टाइम्स के हवाले से रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) में दायर एक फाइलिंग के अनुसार क्लाउड किचन ऑपरेटर Rebel Foods ने अमेरिका आधारित मौजूदा निवेशक Coatue Management से एक नए निवेश दौर में $50 मिलियन की राशि प्राप्त की है।

बता दें रिपोर्ट में Tofler द्वारा प्राप्त RoC फाइलिंग का हवाला देते हुए यह बताया गया कि Rebel Foods ने अनिवार्य रूप से परिवर्तनीय कुल 5,627 Series E1 शेयरों को 6,73,828.66 रुपये प्रति शेयर की कीमत पर Coatue PE Asia को जारी किये हैं।

दरसल यह नया इक्विटी निवेश इस मुंबई स्थित स्टार्टअप Rebel Foods के लिए पिछले साल अगस्त में प्राप्त $125 मिलियन के निवेश दौर के बाद आया है। दिलचस्प यह है कि उस निवेश दौर का नेतृत्व भी Coatue Management ने ही किया था, जिसमें Go-Jek और Goldman Sachs जैसे निवेशक भी शामिल रहे थे।

इस निवेश दौर का एक और गौर करने वाला पहलु यह भी था कि उस निवेश को प्राप्त करने के बाद करीब एक दशक पुरानी Rebel Foods कंपनी की वैल्यूएशन लगभग $525 मिलियन हो गयी थी।

इस बीच Entrackr की एक रिपोर्ट की माने तो इस नए निवेश के बाद Rebel Foods की वैल्यूएशन लगभग $700 मिलियन के करीब पहुँच गयी है।

लेकिन एक दिलचस्प बात तो सामने आई है वह यह कि RoC फाइलिंग के मुताबिक Rebel Foods ने बेंगलुरु स्थित होम शेफ प्लेटफॉर्म FoodyBuddy में प्राइमरी और सेकेंडरी लेनदेन के जरिये 3 करोड़ रुपये का निवेश भी किया है।

Tracxn की एक रिपोर्ट को आधार माने तो फरवरी में Rebel Foods ने Alteria Capital से वेंचर डेबिट राउंड के तहत $4.91 मिलियन भी हासिल किये थे।

आपको बता दें INSEAD के पूर्व छात्रों जयदीप बर्मन और कल्लोल बनर्जी द्वारा 2010 में Rebel Foods की स्थापना की गयी थी।

इस क्लाउड किचन ऑपरेटर कंपनी के निवेशकों की सूची में Sequoia Capital, Lightbox, ru-Net और Uber के सह-संस्थापक और पूर्व सीईओ Travis Kalanick जैसे बड़े नाम शुमार हैं। इस बीच बता दें वित्तीय वर्ष 2018-19 में Rebel Foods द्वारा 130.64 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा दर्ज किया था, जो इससे पहले के वर्ष की तुलना में 74.44 करोड़ रुपये अधिक था। लेकिन इस बढ़े घाटे का कारण कंपनी का तेजी से हुआ विस्तार बताया गया।

दरसल यह कंपनी तीन देशों में 2,100 से अधिक इंटरनेट रेस्टोरेंट और करीब 300 क्लाउड किचन संचालित करती है। कंपनी के मुताबिक वित्त वर्ष 2019 में इसका राजस्व दोगुना होते हुए 310.37 करोड़ रुपये से अधिक रहा, जो इसके पिछले साल तक 149.5 करोड़ रुपये ही था।

आपको बता दें Rebel Foods असल में Behrouz Biriyani, Oven Story, Firangi Bake और Mandarin Oak जैसे ब्रांडों का संचालन करती है।

इसके मॉडल को कई विशेषज्ञों द्वारा सराहा भी जाता रहा है, क्यूंकि इसके Zomato और Swiggy की तुलना में अधिक मार्जिन हासिल करने की बात कही जारी है। दरसल जानकारों की माने तो क्लाउड किचन आधारित निजी ब्रांडों पर मार्जिन बहुत अधिक है और रियल स्टेट के नजरिये से निवेश काफ़ी कम।