सोर्स; टेकक्रंच

दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया कंपनी Facebook ने अपने COVID Newsroom पोस्ट में आज एक अहम ऐलान किया।

दरसल Facebook ने अपने इस पोस्ट में नये ‘Quiet Mode’ विकल्प को पेश करने का ऐलान किया, जिसके जरिये अब उपयोगकर्ता एक निश्चित समय के लिए ऐप के Push Notifications को बंद कर सकेंगें।

दरसल कंपनी के अनुसार COVID-19 की महामारी के चलते मौजूदा हालातों में घर से काम करने को मजबूर लोग अब अपने Facebook ऐप पर यह तय कर सकेंगें की वह कब सोशल मीडिया के अपडेट के साथ बिताना चाहतें हैं।

खास यह है कि Facebook ने यह दावा किया कि उपयोगर्ता इस ‘Quiet Mode’ के जरिये अपनी जरूरत के अनुसार तुरंत या कोई भी तय समय सीमा के लिए शेड्यूल कर Push Notifications को बंद कर सकेंगें।

आसान भाषा में समझाएं तो अगर मानिये आप सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक घर से काम करते हैं, और आप चाहतें हैं इस वक़्त तक आप Facebook ऐप पर अपना समय न बिताएं तो आप तो आप इस समय अंतराल के लिए ‘Quiet Mode’ को सेट कर सकते हैं।

और अगर आप ‘Quiet Mode’ में तय की गयी समय सीमा के बीच में ही Facebook ऐप को खोलेगें तो यह आपको याद दिलाएगा कि आपने इस समय के लिए ऐप के Notifications से दूरी बनाये रखना तय किया था।

इस बीच आपको बता दें इस Quiet Mode विकल्प को आप Facebook की ऐप पर ‘न्यू सेक्शन’ की जगह पर पा सकतें हैं, जहां आप सामान्यतः Facebook प्लेटफॉर्म पर बिताए गए अपने समय के बारे में अन्य डेटा देखतें हैं।

दरसल यहाँ आप उन चार्टों को खोजने में भी सक्षम होंगे जो आपको ऐप पर बिताए गये आपके दैनिक समय को दिखायेगा। जैसे आपने दिन और रात में ऐप का इस्तेमाल कब अधिक किया, आपने कितनी बार Facebook ऐप खोला आदि।

आपको बता दें Facebook ने यूँ तो 2018 में ही अपना पहला “Time Spent” चार्ट ऐप पर पेश कर दिया था, लेकिन आज नए तौर पर लॉन्च किये गये ‘Your Time on Facebook’ सेक्शन में आप इस चार्ट और डेटा को एक नए बेहतर स्वरूप में देख सकतें हैं। साथ ही कंपनी ने अब इसमें और भी कई पैमानों पर डेटा को जोड़ा है।

इसके साथ ही इस सेक्शन में Activity Log, Settings, News Feed Preferences और Notification Settings को भी जगह दी गयी है।

दरसल यह सब भले कोई नई सुविधाएँ नहीं हैं, लेकिन Facebook ने अब आपके समय प्रबंधन को अहमियत देते हुए एक वन-स्टॉप-शॉप की धारणा के तहत इसपर काम किया है।

दरसल इसको भी अब Digital Well-Being मुहीम के हिस्से के रूप में देखा जा रहा है। आपको बता दें  Digital Well-Being मुहीम के इस विचार का मकसद यह साबित करना है कि हमारे स्मार्टफ़ोन और एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं की मानसिक स्वास्थ्य आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए नहीं बनाए गए, बल्कि स्क्रीन पर बने रहने के उनके समय को अधिकतम बढ़ाने के इरादे से डिज़ाइन किए गए थे।

लेकिन तमाम आलोचनाओं के बाद अब इस दिशा में Facebook, Google और Apple सहित कई दिग्गज़ कंपनियों ने कदम उठाते हुए उपयोगकर्ताओं के फोन एवं ऐप पर बिताए गए समय को ट्रैक करने और उसको सीमित करने जैसी सुविधायें दी हैं, जिससे उपयोगकर्ता अपनी समय को ट्रैक कर सकतें और अनावश्यक रूप से मोबाइल व ऐप के इस्तेमाल से बचें।