oyo-ipo-news-
Source: Oyo Website

हमेशा ख़बरों में बने रहने की आदत से मजबूर OYO एक बार फिर से सुर्ख़ियों में है और जैसा अधिकतर होता है, यह खबर भी कंपनी की साख के संदर्भ में कुछ अच्छी नहीं कही जा सकती है।

दरसल इकॉनोमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब बीते मार्च ही SoftBank समर्थित OYO द्वारा अमेरिका में बर्खास्त किए गए कर्मचारियों और कंपनी के अंदरूनी सूत्रों ने ईटी को बताया कि कंपनी ने अपने अमेरिकी व्यवसाय में सेल्स, बिज़नेस डेवलपमेंट और एचआर जैसे विभागों से सैकड़ों कर्मचारियों की छटनी की है।

वहीँ कुछ अन्य मीडिया रिपोर्टों की माने तो OYO ने इससे पहले फरवरी में भी अमेरिका में अपने तत्कालीन कर्मचारियों में एक तिहाई (करीब 360 कर्मचारियों) की छटनी की थी।

आपको बता दें रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि अमेरिकी होटलों पर OYO का पूंजी निवेश भी COVID-19 के प्रकोप के मौजूदा हालातों में घटकर एक चौथाई ही रह गया है।

रिपोर्ट के अनुसार मामले के जानकार एक शख्स ने बताया;

“OYO अमेरिका में बिज़नेस के संदर्भ में एक लंबी चल सकने वाली अशांति की उम्मीद कर रहा है और इसलिए कंपनी कुछ होटल कर्मचारियों के साथ ही साथ अपने कॉर्पोरेट डिवीजन में से भी बहुत से लोगों को बाहर कर रही है। दरसल वित्तीय स्थिति और संचालन दोनों ही काफी लचर हालत में हैं, इसलिए बहुत से अन्य लोगों को भी कंपनी छोड़ने के लिए कहा गया है।”

“दरसल कंपनी के लिए अमेरिका में लागत बहुत अधिक है और इसलिए शीर्ष नेतृत्व ऐसा सोचता है कि अगर खर्चों में कटौती नहीं की गई तो भविष्य में बड़े आर्थिक संकट से गुजरना पड़ सकता है।”

देखा जाए तो नौकरी में यह कटौती COVID-19 के चलते पैदा हुए नए हालातों का ही नतीजा है, जिसके कारण अमेरिका में अब तक 10,000 से अधिक मौतें हो चुकी हैं, और साथ ही व्यवसायों को बड़ा झटका लगा है, जिससे कई लोगों को नौकरियां भी खोनी पड़ रही हैं।

और मौजूदा हालातों में तो सबसे अधिक प्रभावित होने वाले व्यवसायों में से एक होटल उद्योग भी है, जिसपर इस महामारी ने गहरा असर छोड़ा है।

लेकिन दिलचस्प रूप से इकॉनोमिक टाइम्स से बात करने वाले कुछ जानकारों के हवाले से यह कहा गया कि कोरोना वायरस के चलते पैदा हुई मौजूदा स्थिति OYO के इस फैसले के पीछे का मुख्य कारण नहीं है। दरसल OYO ने जनवरी में एक नए सिरे से पुनर्गठन अभ्यास की घोषणा की थी, जिसके तहत कंपनी के खर्चों में कटौती करने के मकसद से कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की प्रक्रिया शुरू की गयी थी।

लेकिन अभी भी यह बात कोई पुख्ता तौर पर नहीं कह पा रहा है कि यह नयी छटनी क्या कंपनी के उसी प्लान का हिस्सा है या फिर नए हालातों का असर?

गौर करने वाली बात यह है कि रिपोर्ट के अनुसार OYO के प्रवक्ता द्वारा इस विषय पर बहुत अधिक जवाब न देते हुए बस इकोनॉमिक टाइम्स के सूत्रों को ग़लत कहा गया है।

रिपोर्ट के अनुसार कंपनी के प्रवक्ता ने एक मेल के जरिये कहा;

“हम सटीक कर्मचारी डेटा का खुलासा नहीं कर सकतें हैं, लेकिन हम इतनी पुष्टि कर सकते हैं कि इस महामारी ने वैश्विक स्तर पर होटल उद्योग को काफ़ी प्रभावित किया है और OYO भी इससे बच नहीं सका है।”

“हम जल्द ही आगे के विवरणों का ऐलान करेंगें क्योंकि हम OYO के दीर्घकालिक संचालन को सुनिश्चित करने के लिए कई अहम फैसलों को अंतिम रूप दे रहें हैं।”

इस बीच आपको बता दें अप्रैल के पहले सप्ताह में बर्खास्त किए गए कर्मचारियों ने रिपोर्ट के हवाले से कहा कि अनिश्चित भारी वेतन, होटल मालिकों के साथ पारदर्शिता की कमी और एक हमेशा बदलते रहने वाला उत्पाद जैसे मुद्दे अमेरिका में कंपनी के सामने प्रमुख चुनौती हैं।