कोरोना वायरस के प्रकोप को बढ़ने के रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल 24 मार्च को रात 8 बजे एक सप्ताह में अपने दूसरे राष्ट्रीय भाषण के दौरान कल आधी रात से शुरू होने वाले देशव्यापी बंद का ऐलान किया है।

आपको बता दें यह लॉकडाउन कल रात 12 बजे से 21 दिनों तक के लिए किया गया है। यह कदम देश में कोरोना वायरस से प्रभावित मामलों की संख्या में तेजी से वृद्धि जारी रहने के कारण लिया गया है। आपको बता दें भारत ने अब तक इस वायरस से 11 लोगों की मौत हुई है और 40 के करीब लोग इससे रिकवर हो सकें हैं, वहीँ कुल संक्रमित लोगों की संख्या 582 के करीब है।

बता दें इस 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान केवल आवश्यक सेवाओं को संचालित करने की अनुमति दी गयी है। आपको बता दें इस ऐलान के पहले ही कई राज्य सरकारों ने अपने अपने राज्य में मार्च अंत तक के लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी।

भले ही भारत में कोरोना संक्रमण के अधिकांश मामलें विदेश से आये लोगों में ही पाए गए हैं, लेकिन सामुदायिक संक्रमण के फेज को रोकने को के लिए यह कदम उठाया जा रहा है।

इस बीच प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में इस बात पर जोर दिया कि मौजूदा हालातों से निपटने का एकमात्र तरीका सामाजिक दूरियां बनाए रखना है। प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों से हाथ जोड़ कर इसका आग्रह किया और चिकित्सा कर्मियों के प्रति दया दिखाने की भी अपील की, जो इस लड़ाई में सबसे आगे हैं। दरसल इस वक़्त में हमें विवेकपूर्ण रूप से सामाजिक दूरियां बनाये रखना चाहिए ताकि चिकित्सा सेटअप पर भार कम हो सके।

साथ ही प्रधानमंत्री ने उन उपायों के बारे में भी बात की जो सरकार द्वारा इसकी रोकथाम के लिए उठाये जा रहें हैं, जैसे चिकित्सा कर्मियों के लिए उचित उपकरणों के साथ अस्पतालों की भी बढ़ी हुई क्षमता। , ऐसी चीज़ जिसके बारे में बहुत शिकायत की गई है।

बता दें सरकार ने देश भर में COVID-19 की टेस्टिंग के लिए 16 निजी लैब चेन को लाइसेंस जारी करने के साथ ही प्राइवेट टेस्ट के लिए भी रास्ता साफ कर दिया है। हाल ही में पुणे स्थित निदान कंपनी MyLabs ने घोषणा की थी कि उसने एक COVID-19 टेस्टिंग किट विकसित की है और पहले से ही “भारत में निर्मित” इस टेस्टिंग किट के लिए सरकारी मंजूरी प्राप्त कर चुकी है। यह किट टेस्टिंग के समय को 4 घंटे से कम करके 2.5 घंटे कर देती है।

इस बीच सबसे जरूरी बात मोदी जी ने यह कही कि आवश्यक आपूर्ति बहुतायत में है और जनता से आपूर्ति को लेकर परेशान न होने का अनुरोध भी किया।

उन्होंने बार-बार यह कहा कि यह सख्त कदम खास तौर पर उन लोगों के लिए हैं जो बाहर बिज़नस करते हैं। उन्होंने पूरे देश में मेडिकल सेटअप को लेकर 15,000 करोड़ रूपये (~ $2Bn) के पैकेज की भी घोषणा की। यह जरुरी भी है क्यूंकि क्योंकि भारत COVID-19 प्रसार के “फेज 3” के काफी करीब आ चूका है।