paytm-denies-reports-of-data-leak-to-china-firms

सबसे ताजा अपडेटो के अनुसार भारत में कोरोना वायरस के मामले अब 400 का आँकड़ा पार कर चुकें हैं। हालाँकि कल देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर ‘जनता कर्फ्यू’ काफ़ी हद तक सफल रहा।

साथ ही जहाँ भारतीय रेलवे ने 31 मार्च, 2020 तक देश की सभी यात्री रेलों को बंद करने का ऐलान कर दिया। वहीँ राजस्थान, पंजाब, दिल्ली और उत्तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों में 31 मार्च तक के लिए लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है।

दरसल देश के सामने एक सबसे बड़ा डर यह है कि अगर यह संक्रमण सामुदायिक स्तर पर फ़ैल गया, तो देश के सामने आवश्यक संसाधनों जैसे चिकित्सा पेशेवरों, उपकरणों और अन्य जरूरी सामानों की काफ़ी कमी की चुनौती खड़ी हो जायेगी और ऐसे में स्थिति खराब हो सकती है।

लेकिन अब ऐसे हालातों की तैयारी और कोरोना वायरस को खत्म करने की दिशा में चल रहे मेडिकल शोध व संसाधनों को लेकर मदद करने के लिए Alibaba समर्थित डिजिटल भुगतान कंपनी Paytm आगे आई है और कंपनी ने इस दिशा में 5 करोड़ रूपये के फंड का ऐलान किया है।

Paytm Group के सीईओ और संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने ट्विटर पर इसकी घोषणा करते हुए कहा,

“COVID-19  संबंधित मेडिकल समाधानों पर काम करने वाली टीमों की मदद के लिए Paytm ने 5 करोड़ रुपये का फंड तैयार किया है।”

https://twitter.com/vijayshekhar/status/1241601033077317633

उनके इस ट्वीट में खास यह था कि उन्होनें प्रतिष्ठित भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) बैंगलोर के एक प्रोफेसर गौरब बनर्जी के एक लेख को शामिल किया। इस लेख में बैनर्जी को पूरे देश में बायो मेडिकल इंजीनियरों से अपील करते हुए कहा था कि

“हम वेंटिलेटर प्रोटोटाइप लगाने में मदद कर सकने वाले इंजीनियरों से जुड़ने का आग्रह करते हैं। हम असल में अधिकांश तौर पर IISc बैंगलोर के एयरोस्पेस और इलेक्ट्रिकल/इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर्स की एक छोटी सी टीम है, जो COVID-19 के गंभीर हालातों में भारत में मौजूद साधनों का प्रयोग करते हुए वेंटिलेटर प्रोटोटाइप बनाने की कोशिश कर रही है। तो अगर आपके पास इससे जुड़ा अनुभव है, तो कृपया हमसें जुड़, सहयोग प्रदान करें।”

प्रोफेसर बनर्जी के इसी नोट से प्रेरित होकर विजय शेखर शर्मा ने इस दिशा में मदद और अपनी प्रतिबद्धता साबित करते हुए अपनी घोषणा में कहा;

“हमें संभावित रूप से वेंटिलेटर की कमी और अन्य COIDID-19 इलाज के लिए इसी तरह के स्वदेशी समाधान के निर्माण शुरू करने हेतु अधिक से अधिक भारतीय इनोवेटर्स की आवश्यकता है।”

दरसल ऐसे कोई भी भारतीय जो यह सोचते हैं कि उनके पास COVID-19 से संबंधित कोई मेडिकल समाधान का प्लान/आईडिया है, वह Paytm को covidcure@paytm.com पर ईमेल कर सकते हैं। आपको बस अपने संपर्क के विवरण के साथ अपने इनोवेशन के बारे में एक संक्षिप्त जानकारी लिखनी होगी। जिसके बाद Paytm की टीम उचित लगने पर आपको खुद संपर्क करेगी।

दरसल विजय शेखर शर्मा देश के उन सबसे अधिक सक्रिय उद्यमियों में से एक रहे हैं, जो इस कोरोना वायरस के प्रकोप की स्थिति में मदद के लिए प्रत्यक्ष तौर पर सामने दिखाई दे रहें हैं।

कुछ दिन पहले उन्होंने कंपनी में कॉन्ट्रैक्ट और अन्य कम-भुगतान वाले कर्मचारियों को निरंतर भुगतान करते रहने के लिए अपने 2 महीनें का वेतन न लेने की घोषणा की थी।

दरसल भारत विश्व के अधिकांश देशों की तरह ही लॉकडाउन की स्थिति से गुजर रहा है, जो बेहद जरूरी भी है। लेकिन इससे कॉन्ट्रैक्ट आधार पर काम करने वाले या दिहाड़ी कर्मचारियों के लिए मुश्किलें खड़ी होती जा रहीं हैं, जिसके चलते कई राज्य सरकारें और व्यावसायिक घराने इनकी मदद को लेकर आगे आ रहें हैं।