after-zomato-ola-starts-10-minute-food-delivery

भारत में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संबंधी मामलों के चलते अब सोशल डिस्टेंसिंग यानि एक दूसरे से उचित दूरी बनाये रखने जैसे उपायों को तेजी से अपनाने की अपील की जा रही है।

और अब इसी श्रृंखला में ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ के फ़ॉर्मूले के समर्थन में भारत में COVID 19 के प्रसार को रोकने के लिए Ola ने भी अपनी ‘शेयर-राइड बुकिंग’ सेवा को फ़िलहाल बंद कर दिया है।

आपको बता दें Ola की इस ‘शेयर-राइड बुकिंग’ या ‘राइड-शेयरिंग’ सेवा के अंतर्गत उपयोगकर्ताओं को अन्य उपयोगकर्ताओं के साथ कैब साझा करने की सहूलियत प्रदान की जाती है, जिससे प्रत्येक सवारी के लिए किराये में कमी आती है।

लेकिन अब इस सेवा को फ़िलहाल अस्थायी रूप से बंद करने के ऐलान के साथ Ola के एक प्रवक्ता ने कहा,

“COVID​-19 के प्रसार को रोकने के हमारे प्रयासों में हम अस्थायी रूप से ‘Ola Share’ श्रेणी को अगले नोटिस तक बंद कर रहे हैं।”

इस बीच कंपनी के अनुसार यह कदम समाज में इस वायरस के प्रसार को रोकने और ग्राहकों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए Ola द्वारा किये जा रहें प्रयासों का ही हिस्सा है।

अपने बयान में कंपनी की ओर से एक प्रवक्ता ने कहा;

“हमारे ड्राईवर भागीदारों और ग्राहकों का स्वास्थ्य और उनकी सुरक्षा हमारे लिए बेहद अहम है और इसलिए हमनें अपने प्लेटफॉर्म पर मौजूद वाहनों में उच्चतम स्तर की स्वच्छता बनाए रखने की दिशा में कई कदम उठाएं हैं।”

“Ola Share सेवाओं को अस्थायी रूप से बंद करना भी नागरिकों को सिर्फ आवश्यक यात्राओं के लिए प्रेरित करने और ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ को बढ़ावा देने के प्रति हमारा एक योगदान है।”

आपको बता दें वर्तमान में Ola ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और ब्रिटेन जैसे कई विदेशी बाजारों में भी अपना संचालन करता है, लेकिन फ़िलहाल सिर्फ भारत में ही Ola Share सेवा का विकल्प प्रदान किया जाता है।

इस बीच आपको बता दें इस सेवा को तब तक बंद रखा जाएगा, जब तक नई दिल्ली वापस से सामाजिक सभाओं और मेल-जोल के लिहाज से सुरक्षित नहीं हो जाता।

वहीँ Uber और Lyft जैसी अन्य कैब सेवा प्रदाता कंपनियों ने अमेरिका में भी ऐसे ही कुछ प्रतिबंधों का ऐलान किया है। लेकिन दिलचस्प यह है कि Uber ने Ola Share की ही तर्ज पर भारत में मौजूद अपनी Uber Pool सेवा में फ़िलहाल ऐसी कोई रोक नहीं लगाई है, हालाँकि ऐसी कोई भी घोषणा होने पर हम आपको तुरंत सूचित करेंगें।

लेकिन दुनिया भर के मौजूदा हालातों को देखते हुए भारत में थोड़ी राहत की बात यह है कि देश में इसके प्रति सरकारों और लोगों की सजगता काफी नज़र आ रही है। साथ ही देश की आबादी और विदेशी पर्यटन का एक बड़ा हब होने के बाद भी फ़िलहाल पीड़ितों की संख्या व मृत्यु दर में अपेक्षाकृत आंकड़ों में कमी देखी जा रही है। हालाँकि एक भी पीड़ित के लिए हमें सवेंदनशील रहना चाहिए और सबके जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हुए खुद भी जरूरी एतिहात बरतने चाहिए।

लेकिन इन आंकड़ो को लेकर कुछ विशेषज्ञों का एक और पहलु है, और वह यह कि भारत में कोरोना वायरस संबंधी टेस्ट काफी कम लोगों का ही हो पा रहा है, जिसके चलते असल आंकडे सामने नहीं आ पा रहें हैं।

इस बीच आपको याद दिला दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश से कल यानि रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ का पालन करने का आग्रह किया है, जिसमें सभी को सुबह 7 बजे से 9 बजे तक घर में रहने की ही सलाह दी गई है।

साथ ही इस दौरान COVID-19 के प्रकोप को रोकने के लिए देश के रेल नेटवर्क को भी पूरे दिन बंद रखा जाएगा। इससे 2400 से अधिक ट्रेनों के प्रभावित होने की बात कई जा रही है। आपको बता दें यह दुनिया के तीसरे सबसे बड़े रेलवे नेटवर्क के इतिहास में अपनी तरह का पहला शटडाउन है।