शायद ही आप में से किसी को भी यह बताने की जरूरत हो कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते दुनिया भर के कई बड़े आयोजन प्रभावित हुए हैं।

आलम यह है कि कोरोना वायरस ने दुनिया भर के देशों की आर्थिक रूप से भी कमर तोड़ दी है। और अब विशेषज्ञों व विश्लेषकों के अनुसार, काफ़ी समय बाद दुनिया भर में इतने व्यापक तौर पर आई आर्थिक मंदी का असर जल्द तो समाप्त नहीं होने वाला है।

और अब इसका वायरस के बढ़ते प्रकोप का असर Y Combinator के Summer 2020 Accelerator Program पर भी पड़ता नज़र आ रहा है। दरसल इस बारे में खुद Y Combinator ने एक घोषणा के तहत कहा कि मौजूदा हालातों को देखते हुए अगर स्थिति में सुधार नहीं होता तो वह अपने Summer 2020 Accelerator Program को पूरी तरीके से वर्चुअल बनाने की दिशा में क़दम उठा सकता है।

अगर आप गौर करेंगें तो समझ जायेंगें कि यह घोषणा कितनी गंभीर है, क्यूंकि यह साफ दिखाती है कि Y Combinator जैसे बड़े स्टार्टअप एक्सीलेटर प्रोग्राम भी अब कोरोना वायरस के प्रभाव से खुद को बचा नहीं सकें हैं।

अपनी इस घोषणा में एक ब्लॉग पोस्ट में Y Combinator ने कहा,

“गर्मियों तक अगर स्थिति ऐसी ही बनी रही तो अपने प्रोग्राम के तहत हम कुछ या सभी स्टार्टअप बैच को वीडियो माध्यमों से जुड़ने जैसे उपाय अपना सकतें हैं।”

लेकिन Y Combinator की इस घोषणा में खास यह था कि कंपनी ने उद्यमियों को स्पष्ट करते हुए बताया कि Summer 2020 Accelerator Program पूर्व-निर्धारित योजना के अनुसार ही होगा। दरसल कंपनी ने कहा;

“हम पूरी जिम्मेदारी से संस्थापकों को यह बताना चाहतें हैं कि YC Summer 2020 बैच निर्धारित योजना के अनुसार ही आयोजित किया जाएगा।”

इस बीच हम आपको बता दें कि इस प्रोग्राम के लिए ऑनलाइन आवेदन की शुरुआत की जा चुकी है और शॉर्टलिस्टिंग प्रक्रिया स्टार्टअप इंटरव्यू में हुए कुछ मामूली बदलावों के साथ वैसी ही रहेगी।

दरसल मौजूदा COVID-19 की वैश्विक महामारी के परिणामस्वरूप, Y Combinator ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि W20 Demo Day एक सप्ताह पहले और सिर्फ़ ऑनलाइन ही आयोजित होगा।

आपको बता दें अपने इस प्रोग्राम के पिछले सभी संस्करणों में Y Combinator सभी चयनित स्टार्टअप्स को कम से कम प्रोग्राम तक की अवधि तक के लिए Bay Area में स्थानांतरित होने को कहता था।

और भले ही यह सुनने में बेहद आकर्षक लगता हो, लेकिन बहुत से स्टार्टअप उसको अपने व्यवसायों पर पड़ने वाले एक बोझ के रूप में भी पाते थे, क्यूंकि स्वाभाविक तौर पर उन्हें अपने बिज़नेस संचालन की जगह को छोड़ कर कहीं और से उसको संचालित करते रहना थोड़ा अधिक मुश्किल लगता था।