आज के दौर में जहाँ एक ओर सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्मो के उपयोग में इजाफ़ा हो रहा है, वहीं इनके दुरूपयोग की घटनाओं में भी काफ़ी बढ़त दर्ज की गई है।

और एक बार फ़िर से ऐसा ही कुछ देखने को मिला है और इस बार वह प्लेटफ़ॉर्म Twitter है। दरसल राजनीतिक तौर पर एक बार फ़िर से सोशल मीडिया के गलत ढंग से इस्तेमाल की घटना को उजागर करते हुए Twitter ने अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार माइक ब्लूमबर्ग के समर्थन में कंटेंट पोस्ट करने वाले लगभग 70 अकाउंटों को बंद करने का ऐलान किया है।

Twitter के प्रवक्ता ने शनिवार को इसकी पुष्टि करते हुए बताया;

“हमने प्लेटफॉर्म के हेर-फेर और स्पैम संबंधी नियमों का उल्लंघन करने वाले अकाउंटों पर कार्रवाई की है।”

आपको बता दें न्यूयॉर्क सिटी के पूर्व मेयर और 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार, माइकल ब्लूमबर्ग पहले भी टीवी और सोशल मीडिया पर अपने विज्ञापनों पर भारी खर्च के चलते सुर्ख़ियों में आ चुकें हैं। रिपोर्ट्स की माने तो वह प्रतिदिन सोशल मीडिया पर विज्ञापनों के लिए $1 मिलियन का खर्च कर रहें हैं, जिसके लिए वह Influencers द्वारा भी स्पॉन्सर्ड पोस्ट इत्यादि करवा रहें है।

रिपोर्ट्स में बताया गया कि अपने इस कैंपेन के तहत Influencers को साप्ताहिक रूप से व्यक्तिगत संदेश भेजने और दैनिक पोस्ट के माध्यम से अपने व्यक्तिगत सोशल मीडिया पेजों पर माइकल ब्लूमबर्ग का प्रचार करने के लिए प्रति माह $2500 का भुगतान किया जा रहा है।

लेकिन जहाँ एक ओर Twitter अपने प्लेटफ़ॉर्म पर ऐसी चीज़ों को रोकने का प्रयास कर रहा है, वहीँ दिलचस्प रूप से Facebook ने राजनीतिक कंटेंट को अपने प्लेटफ़ॉर्म में और बढ़ावा देने के लिए Influencers को नए नियमों के जरिये कई सहूलियतें प्रदान की हैं, हालाँकि कई लोग इसकी भारी आलोचना भी कर रहें हैं।

लेकिन ब्लूमबर्ग के कैंपेनों के एक प्रवक्ता ने Twitter के इस कदम के बारे में कहा कि वह Tweets किसी को भी गुमराह करने के लिए नहीं थे।

ब्लूमबर्ग के कैंपेनों के वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रवक्ता सबरीना सिंह ने Reuters को भेजे एक ईमेल में कहा;

“हमारे सभी डिप्टी फील्ड आयोजकों ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर यह साफ लिख रखा है कि वह माइक ब्लूमबर्ग 2020 कैंपेन में काम कर रहें हैं। और यही सब लोग अपने मित्रों और परिवार के नेटवर्क पर कंटेंट को साझा करते हैं, और हमारा मकसद किसी को गुमराह करने का नहीं था।”

दरसल इन अकाउंट्स द्वारा कथित तौर पर एक ही तरीके के Texts, Image, Links, और Hashtags का इस्तेमाल करते हुए पाया। वहीँ Twitter के नियमों में यह साफ़ तौर पर लिखा हुआ है कि आप एक ही कंटेंट को बार बार एक ही तरीके से फ़ैलाने के लिए एक साथ कई अकाउंट्स का इस्तेमाल नहीं कर सकतें हैं।

आपको बता यह नियम Twitter ने 2019 में लाया था और वह थी कि 2016 में चुनाव के दौरान अमेरिकी मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए रूस के कई अकाउंट्स पर ऐसे ही आरोप लगे थे।

आपको याद दिला दें कि Twitter पहले ही अपने प्लेटफ़ॉर्म पर राजनीतिक विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगा चुका है। दरसल कंपनी ने यह कदम इसलिए उठाया ताकि राजनीतिक लोगों, सरकारी अधिकारी या उनके सहयोगी द्वारा पैसों का भुगतान करके प्लेटफ़ॉर्म को झूठ फ़ैलाने वाले हथियार के तौर पर इस्तेमाल न किया जा सके।

साथ ही Twitter ने हाल ही में ही यह भी घोषणा की है कि 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों के दौरान भी कंपनी का गलत जानकारियाँ ट्रैक करने वाला टूल भी इस्तेमाल किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.