भारत की अर्थव्यवस्था भले ही एक अच्छे दौर से न गुजर रही हो, लेकिन इस साल की शुरुआत से ही देश के स्टार्टअप जगत द्वारा हासिल किये गये भारी निवेश कुछ और ही कहानी बयाँ करते हैं।

दरसल साल 2020 की शुरुआत से ही लगातार भारतीय स्टार्टअप्स निवेशकों का भरोसा जीतते नज़र आ रहें हैं और साथ ही वह इस भरोसे को फंडिंग में बदलने में भी सफ़ल साबित हो रहें हैं।

और ख़ासकर हाल के कुछ दिनों में देश के फिनटेक क्षेत्र में लगातार कई बड़े और पारंपरिक निवेशक पूंजी लगाते नज़र आयें हैं और इसका एक उदाहरण आज भी देखने को मिला। दरसल देश की क्रॉस-प्लेटफॉर्म QR-कोड आधारित ऑनलाइन भुगतान कंपनी, BharatPe को इसके सीरीज-C निवेश दौर में $75 मिलियन की फंडिंग प्राप्त हुई है।

बता दें BharatPe के इस सीरीज-C निवेश दौर का नेतृत्व Coatue Management और Ribbit Capital ने किया। वहीँ इस दौर में Amplo, Insight Partners और Steadview Capital ने भी अपनी भागीदारी दर्ज की।

और साथ ही अब इस नए निवेश दौर को मिलाकर, BharatPe अब तक कुल चार निवेश दौर में लगभग $143 मिलियन की राशि प्राप्त कर चुका है। और इस नए निवेश दौर के बाद BharatPe की वैल्यूएशन भी कथित रूप से $425 मिलियन की हो गई है।

यह वाकई एक अच्छी उछाल है, क्यूंकि पिछले साल तक Ribbit Capital के नेतृत्व में Series B निवेश दौर में $50 मिलियन का निवेश हासिल करने के बाद BharatPe की वैल्यूएशन करीब $225 मिलियन का आँकड़ा ही छू सकी थी।

लेकिन इस निवेश दौर को और खास बनाता है, इस दौर में प्राप्त पैसों का कंपनी द्वारा इस्तेमाल। दरसल BharatPe प्राप्त नई राशि का उपयोग अब अपने नए बिजनेस वर्टिकल में करने जा रहा है।

दरसल इस बात में कोई शक नहीं है कि भारत डिजिटल पेमेंट को लेकर अतिरिक्त चार्ज इत्यादि चीज़ों को काफी पीछे छोड़ चुका है और अब UPI- आधारित पेमेंट विकल्पों से परे अधिकतर कंपनियों के पास कोई खास या दिलचस्प बिज़नेस मॉडल नहीं बचा है।

और शायद ऐसी ही सेवाओं के साथ अपनी शुरुआत करने वाला BharatPe इस बात को समझ चुका है और इसलिए अब कंपनी ने NBFC लाइसेंस के लिए आवेदन कर दिया है। जी हाँ! यही होगा कंपनी का नया बिज़नेस वर्टीकल, जिसमें कंपनी प्राप्त राशि का निवेश करती नज़र आएगी।

इस बीच आपको इतना जरुर बता दें, कंपनी को अभी तक NBFC लाइसेंस के लिए मंजूरी नहीं मिली है और यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा इसकी मंजूरी दिए जाने का इंतजार कर रही है।

वैसे NBFC इकाई को लेकर कोई अटकलें नहीं है, इस बात का ऐलान खुद कंपनी ने किया है। BharatPe ने अपने एक बयान में कहा है कि यह अपनी NBFC इकाई, Resilient Capital के लिए इक्विटी कैपिटल के तहत लगभग $70 मिलियन का उपयोग करेगी। बाकी शेष राशि का इस्तेमाल कंपनी नई तकनीक और उत्पादों की बेहतरी के लिए करेगी।

दरसल NBFC इकाई में इस भारी निवेश के जरिये कंपनी का मकसद छोटे व्यापारियों को लोन प्रदान करने की अपनी इस नई सेवा के लिए 3-4 गुना अधिक करीब $300 मिलियन की फंडिंग प्राप्त करने का है।

बता दें अब तक BharatPe को एक ऐसे प्लेटफ़ॉर्म के रूप में ही देखा जाता है, जो सरकार द्वारा समर्थित UPI पेमेंट का समर्थन करने वाले ऑफ़लाइन व्यापारियों को QR कोड का उपयोग करके डिजिटल पेमेंट स्वीकार करने में मदद करता है।

साथ ही BharatPe फ़िलहाल 30 भारतीय शहरों में करीब 3मिलियन से अधिक व्यापारियों को अपनी सेवाएं देने का दावा करता है। वहीँ अगले साल मार्च के अंत तक कंपनी इस आँकड़े के 8 मिलियन तक बढ़ने की संभवना जाता रही है।

कंपनी के अनुसार उसने पिछले सात महीनों में 20,000 से अधिक व्यापारियों को 100 करोड़ रूपये का लोन भी दिया है। और इस आँकड़े को भी कंपनी अगले दो वर्षों में 300,000 व्यापारियों तक करने का दावा करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.