आप सभी को शायद मालूम हो कि हाल में व्यापक तौर पर प्रचार के साथ PhonePe ने अपनी PhonePe ATM नामक सेवा का आगाज किया है।

इसके जरिये उपयोगकर्ताओं को Unified Payments Interface (UPI) के माध्यम से कंपनी के ऑफ़लाइन व्यापारियों से नकद लेने की सुविधा दी जाती है। लेकिन अब सूत्रों के अनुसार प्रतिद्वंदी कंपनियों ने PhonePe ATM नामक इस सेवा को लेकर नियमों की अनदेखी का हवाला देते हुए कई सवाल उठाए हैं।

दरसल पिछले हफ्ते शुक्रवार को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की एक बैठक के दौरान यह विषय एक बहस का मुद्दा बन गया। बैठक में बैंकों और Paytm सहित PhonePe के अन्य प्रतिद्वंद्वियों ने PhonePe ATM पर सवाल उठाते हुए UPI के माध्यम से नकद निकालने संबंधी नियामक नियमों के न होने के चलते इसको लेकर दी गई अनुमति पर सवाल उठाए।

आपको बता दें भले भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा पॉइंट-ऑफ-सेल्स (PoS) मशीनों पर नकद निकालने की अनुमति दी गई है, लेकिन NPCI ने अभी तक UPI प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हुए ऐसा करने के लिए कोई भी अधिकारिक मानक नहीं बनाए हैं। और अब खबर आई है कि NPCI इन्हीं दिशानिर्देश को तैयार करने पर काम कर रहा है।

हालाँकि कंपनियों ने बैंकों से भी सवाल करते हुए पूछा, कि क्या इस तरीके से कैश निकालने पर ग्राहकों पर किसी प्रकार का कोई सर्विस चार्ज लगाया जाएगा? दरसल यह दिलचस्प है क्यूँकि अगर इस तरीके से कैश निकालने पर बैंक ग्राहकों पर कोई अतिरिक्त चार्ज लगाते हैं तो शायद ही PhonePe ATM की यह सुविधा ग्राहक इस्तेमाल करें!

PhonePe को भी इसका एहसास है और इसलिए वह ऐसे किसी नियम के पक्ष में नहीं है। लेकिन अब खबर है कि NPCI भी PoS डिवाइस के जरिये कैश निकालने के मॉडल की तर्ज पर ही UPI के जरिये कैश निकालने संबंधी नियम तैयार कर रही है।

दरसल बिना किसी मौजूदा दिशानिर्देशों के PhonePe द्वारा ऐसी सेवा के लॉन्च को मंजूरी देने के मुद्दे को प्रतिद्वंदियों द्वारा जमकर उठाने से NPCI पर भी काफी दबाव बन गया है।

बता दें PhonePe अपनी इस नई PhonePe ATM सेवा में लाखों दुकानदारों को जोड़ चुका है, आपको बता दें PhonePe से देशभर में कुल 10 मिलियन व्यापारी जुडें होने का दावा किया जाता है।

वैसे सूत्रों की माने तो PhonePe अपने इस ATM सेवा को बंद करने के मूड में बिल्कुल भी नहीं है, और ख़ासकर तब जब न्यूयॉर्क में हुए वार्षिक निवेशक बैठक में Walmart के अंतरराष्ट्रीय सीईओ और प्रेसिडेंट, Judith McKenna द्वारा इस नई सेवा को “क्रांतिकारी” क़रार दिया गया है।

वैसे कई रिपोर्ट्स यह भी कहती हैं कि फ़िलहाल NPCI इस ओर दिशानिर्देशों को तैयार करने पर काम कर रहा है, और हो सकता है कि तब तक ऐसी मौजूदा सेवाओं को कुछ समय के लिए रोक दिया जाए।

दरसल रिपोर्ट्स पर विश्वास करें तो NPCI इस तरीके से कैश निकालने पर ग्राहकों पर अधिकतम 10 रूपये तक का चार्ज लगाने के पक्ष में है, और साथ ही NPCI ऐसे लेनदेन के लिए दैनिक तौर पर अधिकतम तीन ट्रांजैक्शन के जरिये 2,000 रुपये की सीमा भी लगा सकता है।

आपको बता दें इसके पहले PhonePe के सबसे बड़े प्रतिद्वंदी Paytm ने दिसंबर 2017 में Paytm ka ATM नामक सुविधा का आगाज़ किया था। जो कंपनी के दावे अनुसार फ़िलहाल देशभर में 67,000 से अधिक स्थानों से कैश-इन और कैश-आउट सुविधा प्रदान करती है।

आपको बता दें कई जानकर PhonePe ATM को कंपनी की आक्रामक मार्केटिंग योजना का एक हिस्सा मानते हैं, जिसके लिए कंपनी 2020 में 800 करोड़ रुपये के बजट के साथ बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान और आलिया भट्ट जैसे ब्रांड एंबेसडरों को लेकर ग्राहकों को रिझाने का प्रसार करती नज़र आएगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *