चीन से शुरुआत के बाद दुनियाभर में जन-जीवन के लिए कहर बन चुके कोरोनोवायरस से न सिर्फ़ लोगों की ज़िंदगियाँ बल्कि अंतराष्ट्रीय कारोबार भी बुरी तरह से प्रभावित होता नज़र आ रहा है।

और अब इसका असर Apple के भारतीय क़ारोबार पर भी पड़ रहा है। दरसल इसके चलते भारत में Apple के फोन वितरकों और कारखानों के लिए उत्पाद आयात और पार्ट्स की आपूर्ति काफी प्रभावित हुई है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के जरिये सामने आई एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया कि कंपनी के लिए देश में पिछले तीन हफ्तों से अधिक समय से कोई नई आपूर्ति नहीं की गई है।

इस विषय पर IDC के डायरेक्टर नवकेंद्र सिंह ने कहा;

“अगर फरवरी के अंत या मार्च की शुरुआत तक चीन में उत्पादन 50% तक नहीं बढ़ा, तो यह चिंताजनक हो सकता है। क्यूंकि अगर चीन से निर्यात में कमी आती है, तो इससे निश्चित रूप से भारत में भी उत्पादों और वेरिएंट्स की उपलब्धता गंभीर रूप से प्रभावित होगी।”

दरसल शोरूमों में उत्पादों की आपूर्ति में गिरावट आई है। और यह इसलिए भी गंभीर विषय हो जाता है क्यूंकि देश में विशेष रूप से बड़ी संख्या में iPhone मॉडलों का आयात किया जाता है।

वैसे भले ही कंपनी अपने कुछ उत्पादों को देश के भीतर ही बना रही है, लेकिन कई पार्ट्स इत्यादि का आयात भी प्रभावित होने के चलते प्रोडक्शन में कमी के संकेत मिलने लगें हैं।

हालाँकि इतना जरुर है कि सूत्रों के अनुसार, Apple के उत्पादों को अभी भी खुदरा दुकानों में आसानी से ख़रीदा जा सकता है, लेकिन इतना जरुर है कि कुछ वेरिएंट और रंगों के लिहाज से इसमें कमी देखी जा रही है।

सूत्र बताते हैं कि ऐसे कई मामले सामने आयें हैं जब ग्राहकों को उनके मनचाहे वैरिएंट या रंग के फ़ोन नहीं मिल पा रहें हैं, क्यूंकि दुकानों तक पर्याप्त आपूर्ति नहीं पहुँच पा रही है।

Apple भी इस मामले में लगातार अपनी नज़रे गड़ाए हुए है और साथ ही कंपनी आपूर्ति चेन को फ़िर से दुरुस्त करने के हर विकल्प तलाश रही है।

दरसल एक सच यह भी है कि भारत में कई चीनी निर्माताओं द्वारा किफ़ायती कीमतों पर अच्छे स्मार्टफोन उपलब्ध करवाने के बाद भी, लोगों के बीच प्रीमियम फ़ोन सेगेमेंट में Apple के उत्पादों का कोई मुक़ाबला नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.