बीते कुछ सालों में आप सभी में भारतीय रेलवे स्टेशनों में मुफ़्त वाई-फ़ाई की सुविधा का शायद इस्तेमाल किया ही होगा।

दरसल दुनिया भर में लोगों को ऑनलाइन प्लेटफार्म और सेवाओं से जोड़ने के मकसद से Google ने साल 2015 में भारत के रेलवे स्टेशनों में ‘Station’ नामक सुविधा की शुरुआत की थी, जिसके तहत Google स्टेशनों पर मुफ्त सार्वजनिक वाई-फाई की पेशकश करता है।

लेकिन अब देशभर में Google द्वारा भारतीय रेलवे और Railtel की साझेदारी के तहत करीब 400 रेलवे स्टेशनों में इस सुविधा के आगाज के बाद अब कंपनी ने धीरे-धीरे विश्व स्तर पर इस सेवा को बंद करने का ऐलान किया है।

लेकिन दिलचस्प रूप से Google ने इस विषय में कहा है कि वह अपने साझेदारों के साथ ऐसा प्रबंध कर रहा है ताकि सेवाओं को ऐसे बंद किया जाये ताकि मौजूदा संसाधन उपयोगी बने रहें। आपको बता दें RailTel उन स्टेशनों पर मुफ्त वाई-फाई की पेशकश करना जारी रखेगा जहां वह पहले ही Google के साथ साझेदारी के तहत इस मुफ्त वाई-फाई की पेशकश कर रहा था।

आपको बता दें एक बयान में कंपनी ने कहा;

“हमने दूरसंचार कंपनियों, ISPs और स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर देश भर में हजारों जगह Station प्रोजेक्ट को लॉन्च किया। समय के साथ ही अन्य देशों से भागीदारों ने भी Station प्रोजेक्ट के लिए आग्रह किया और हमनें उन्हें भी मदद की।”

“और हम इन सभी भागीदारियों के लिए आभारी हैं, और विशेष रूप से हम भारतीय रेलवे और भारत सरकार को शुक्रिया अदा करते हैं, जिन्होंने पिछले कुछ सालों में लाखों उपयोगकर्ताओं को अपनी सेवाएं प्रदान करने में हमें मदद करी।”

लेकिन अब Google ने सस्ते डेटा कीमतों का हवाला देते हुए अपनी इस सेवा को बंद करने का फ़ैसला किया है। दरसल कंपनी का कहना है कि भारत अब दुनिया में प्रति GB के हिसाब से सबसे सस्ते मोबाइल डेटा वाला देश बन गया है। पिछले 5 सालों में मोबाइल डेटा की कीमतें 95% तक कम हो गई हैं।

और ऐसे में मुफ्त वाई-फाई सेवा उपयोगकर्ताओं और प्रदाताओं दोनों के लिहाज़ से कोई अधिक लाभकारी साबित नहीं होती है। दरसल Station के लॉन्च के करीब एक साल बाद मुकेश अंबानी की Reliance Industries द्वारा Jio लॉन्च किया गया। और इसके बाद क्या हुआ, यह सब जानते हैं।

वैसे इस मुद्दे और और भी आँकड़े पेश करते हुए Google ने बताया कि भारतीय उपयोगकर्ता हर महीने औसतन 10GB डेटा का इस्तेमाल करते हैं। साथ ही Google के अनुसार सरकारों और स्थानीय संस्थाओं ने सभी के लिए इंटरनेट तक आसान और किफ़ायती पहुंच प्रदान कीं हैं, और इसके चलते मुफ्त सार्वजनिक वाई-फाई सेवा की आवश्यकता कम हो गई है।

लेकिन ऐसा नहीं है कि कंपनी अधिक से अधिक लोगों तक इंटरनेट सेवाओं को पहुँचाने की अपनी प्रतिबद्धता से पीछे हट रही है, दरसल Google का कहना है कि वह इस दिशा में और मजबूती से कदम बढ़ा रहा है।

इसके लिए कंपनी और अधिक प्रासंगिक व सहायक ऐप्स और सेवाओं का निर्माण करेगी और उपयोगकर्ताओं को व्यवसाय इत्यादि के लिए डिजिटल कौशल को लेकर प्रशिक्षण प्रदान करने के साथ ही साथ  डेवलपर्स और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को सशक्त बनाने के लिए सहायक प्लेटफ़ॉर्म की भी पेशकश करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.