एक अंतरिक्ष यात्री बनना ही एक बेमिसाल अनुभव होता है, और यह और भी खास हो जाता है जब आप एक कीर्तिमान बनाने वाले अंतरिक्ष यात्री हों।

आप जिस ग्रह में जन्में उसको अंतरिक्ष में जाकर देख सकने और सकुशल वापस धरती पर आने का अनुभव प्राप्त करने वालों की सूची में अब एक नया नाम शुमार हुआ है, और वह नाम है नासा की अंतरिक्ष यात्री क्रिस्टीना कोच का।

जी हाँ! क्रिस्टीना कोच अपने सह यात्रियों Luca Parmitano और रूस के Alexander Skvortsov के साथ अंतरिक्ष में रहने का रिकॉर्ड तोड़ कर सकुशल वापस आ गई हैं।

आपको बता दें तीनों ने अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आई.एस.एस.) में 328 दिन बिताए और इन्होनें कजाखस्तान की सीमा में 4:12 पूर्वाह्न ईएसटी (3:12 बजे स्थानीय समय) पर लैंडिंग की, जिसके बाद इन सभी अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में करीब 12:50 बजे Soyuz कैप्सूल में ले जाया गया।

उनकी इस लंबी यात्रा ने उन्हें अंतरिक्ष में सबसे लंबे समय तक रहने वाले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री की सूची में दूसरे स्थान में जगह प्रदान की। आपको बता दें इस सूची में पहले स्थान पर स्कॉट केली (जिन्होंने अंतरिक्ष में 340 दिन बिताए थे) बरक़रार हैं।

लेकिन दुनिया भर में किसी महिला द्वारा अंतरिक्ष में सबसे लंबे समय तक रहने का खिताब भी क्रिस्टीना कोच ने अपने नाम कर लिया है, जो वाकई कोई छोटी उपलब्धि नहीं है।

आई.एस.एस. में अपना समय बिताने के दौरान, उन्होनें पृथ्वी की 5,248 बार परिक्रमा करते हुए कुल 139 मिलियन मील की यात्रा तय की।

उन्होंने अंतरिक्ष स्टेशन के बाहर अंतरिक्ष में भी समय बिताया, जहाँ उन्होनें छह स्पेसवॉक पूरी कीं। यहाँ भी उन्होनें पहली बार सिर्फ़ महिलाओं द्वारा तय की गई स्पेसवॉक के पैमाने पर रिकॉर्ड कायम किया, जिसमें उनकी साथी अंतरिक्ष यात्री Jessica Meir भी शामिल थीं।

इस बीच आपको बता दें भले ही अंतरिक्ष से लौटे सभी अंतरिक्ष यात्री स्वस्थ नज़र आयें, लेकिन उनको निरंतर ही चिकित्सा जांच और स्वास्थ्य निगारी में रखा जाता है। हालाँकि इसमें कोई घबराने वाली बात नहीं है, यह सभी अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक सामान्य प्रोटोकॉल का हिस्सा है।

लेकिन इस बीच नासा के लिए सब उतना भी सही नहीं चल रहा है। हम ऐसा इसलिए कह रहें हैं क्यूंकि हाल ही में ही अमेरिका की सदन में एक बिल प्रस्तावित किया गया है, जिसके अनुसार चाँद पर कुछ ठिकानों की स्थापना संबंधी नासा की योजनाओं को बंद करने की बात कही गई है।

आपको बता दें यह प्रस्ताव हाउस एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस उपसमिति की हाउस स्पेस एंड साइंस कमेटी के हवाले से आया है, जिसने नासा के इन बेमिसाल प्रयासों को आगे बढ़ने से रोक सा दिया है।

इसके साथ ही इस प्रस्ताव के तहत नासा के सामान्य सहयोगियों के साथ मिलकर चंद्रमा पर वैज्ञानिक रिसर्च करने के प्रयासों को भी सीमित किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.