देश में निवेश करने वाले प्रमुख निवेशकों में शुमार Tiger Global Management ने $3.75 बिलियन का नया निवेश फंड बनाया है।

जी हाँ! टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट की माने तो इस वेंचर कैपिटल फर्म ने एक बार फ़िर से अमेरिका, चीन के साथ ही साथ भारतीय बाजार में तकनीकी स्टार्टअप को समर्थन देने के मकसद से इस नए निवेश फंड को ज़ारी किया है।

दरसल Tiger Global Private Investment Partners XII नाम से बना यह नया वेंचर फंड निवेश के लिहाज़ से सिर्फ़ भारत, चीन और अमेरिका आधारित स्टार्टअप्स में ही अपना ध्यान केन्द्रित करेगा।

आपको बता दें कई रिपोर्ट्स के अनुसार Tiger Global ने 3 साल के विराम के बाद साल 2019 में देश में करीब 23 निवेश किये थे।

Tiger Global Management की नेट इंटरनल रेट ऑफ़ रिटर्न 24% है, जिसकी बड़ी वजह ई-कॉमर्स की दिग्गज कंपनी JD.com Inc. में किये गये $200 मिलियन के निवेश पर 5 बिलियन डॉलर की गई कमाई है।

हाल ही में इसने चीन के ऑनलाइन सर्विस प्लेटफॉर्म Meituan Dianping में $1 बिलियन से अधिक की कमाई की। साथ ही ई-सिगरेट कंपनी Juul में भी इसको निवेश से काफी लाभ मिला।

Tiger Global के निजी निवेश प्रमुख Lee Fixel (जिन्होंने 2006 में फर्म के भारत निवेशों की शुरुआत की) ने हाल ही में ही कंपनी का साथ छोड़ दिया। जिसके बाद ऐसी अटकलें लगाई जाने लगीं कि शायद अब कंपनी भारत में अपने निवेश में कमी लाएगी।

आपको बता दें भारत में निवेश के जुड़े कुछ बड़े सौदों में Fixel ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिसमें से एक ई-कॉमर्स दिग्गज Flipkart का शुरुआत निवेश भी था।

हालाँकि कंपनी में उनकी जगह लेने वाले Scott Shleifer ने और भी आक्रामक तरीके से भारत का रुख किया। और खबर है कि वह वर्तमान में दो और भारतीय स्टार्टअप, Dream11 और Public में निवेश करने को लेकर बातचीत कर रहें हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक Tiger Global Management के साथ ही साथ SoftBank Vision Fund और Prosus भी Dream11 में करीब $2 बिलियन की वैल्यूएशन पर निवेश करने को लेकर बातचीत के दौर में हैं।

इस बीच आपको बता दें भारत में वर्तमान समय में प्रारंभिक चरण और मध्य-चरण के स्टार्टअप को काफी निवेशकों का समर्थन मिलता नज़र आ रहा है। Tiger Global Management के अलावा Accel और Sequoia जैसे बड़े निवेशकों ने भी भारत में निवेश के लिहाज़ से नया फंड तैयार किया है।

पिछले महीने Accel India ने भारतीय स्टार्टअप्स के लिए $550 मिलियन का फंड बनाया था, वहीँ Sequoia Capital ने कथित तौर पर $1.3 बिलियन जुटाए हैं, जिसका इस्तेमाल कंपनी भारत और दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्रों में कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *