भारत के एक और लोकप्रिय ऑनलाइन भुगतान प्लेटफॉर्म BharatPe ने अपनी वार्षिक वित्तीय रिपोर्ट जारी की है, जो कंपनी के लिए कहीं न कहीं थोड़ी निरशाजनक जरुर है। 

जी हाँ! दरसल इस रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने वित्त वर्ष 2019 में $3.2 मिलियन का नुकसान दर्ज किया है। कंपनी ने रिपोर्ट में कुल 23 करोड़ रूपये के खर्च का दावा किया है, जिसमें कर्मचारी लाभ में 2.5 करोड़ रूपये और अन्य खर्चों के रूप में 20 करोड़ रूपये शामिल हैं।

इसके साथ ही कंपनी ने कुल 39,000 रूपये का राजस्व कमाया है, जो ब्याज के रूप में आया मुख्य आय श्रोत रहा।

आपको बता दें BharatPe को 2018 में Ashneer Grover और Shashvat Nakrani द्वारा स्थापित किया गया था। यह स्टार्टअप जमीनी स्तर पर भुगतान, उधार, जमा और अन्य वित्तीय सेवाओं के लिए एक मंच के रूप में 20 मिलियन से अधिक छोटे भारतीय व्यापारियों को सेवाएं प्रदान करने का दावा करता है।

साथ ही दिलचस्प रूप से कुछ दिन पहले ही Mastercard ने अपने Start Path प्रोग्राम के लिए BharatPe का चयन किया है। यह प्रोग्राम Mastercard Accelerate नामक एक ग्लोबल पहल का हिस्सा है। इस प्रोग्राम के लिए Mastercard हर साल करीब 1500 आवेदकों में से 40 को चुनता है। 2014 में इस प्रोग्राम की शुरुआत के बाद से अब तक इसमें करीब 220 स्टार्टअप शामिल किये जा चुकें हैं।

इस प्रोग्राम के तहत BharatPe छह अन्य तकनीकी स्टार्टअप्स के साथ लर्निंग प्रक्रिया में भाग लेगा और साथ ही Mastercard के विशेषज्ञों, ग्राहकों और भागीदारों के नेटवर्क से सीखने का भी अवसर प्राप्त करेगा।

इस बीच आपको बता दें BharatPe का दावा है कि प्लेटफ़ॉर्म पर रोजाना 12 लाख रूपये से अधिक की लेनदेन होती है। कंपनी करीब 25 लाख से भी अधिक व्यापारियों को मुफ्त में UPI द्वारा लेनदेन की सुविधा देती है।

इसके साथ ही कंपनी का यह भी दावा है कि यह सालाना तौर पर 15,000 करोड़ रूपये से अधिक के लेनदेन को प्रोसेस करती है, और यह आँकड़ा 2019 में 20 गुना बढ़ा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.