भारत के म्यूजिक स्ट्रीमिंग बाज़ार में एक नहीं बल्कि कई बड़े ख़िलाड़ी आपस में संघर्ष करते नज़र आते रहतें हैं।

लेकिन अगर आपको यह बताए कि इस होड़ में अन्य म्यूजिक स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्मो जैसे Gaana, JioSaavn, Spotify आदि को पछाड़ते हुए YouTube के पेड म्यूजिक ऐप ‘Youtube Music’ ने काफी बढ़त बना ली है, तो आपको शायद ही एक पल के लिए यकींन हो?

लेकिन असल में Bloomberg की एक रिपोर्ट के अनुसार Youtube Music के पास अब 800,000 से अधिक पेड सब्सक्राइबर्स का आधार है, जो JioSaavn और Gaana जैसे अन्य खिलाड़ियों से कहीं ज्यादा है।

और यह बात और खास इसलिए भी हो जाती है क्यूंकि Gaana और JioSaavn दोनों ऐसे प्लेटफ़ॉर्म हैं, जिनके मालिकों के पास पैसों की कोई भी कमी नहीं है।

जी हाँ! जहाँ एक ओर Gaana ऐप पर Times Group का मालिकाना हक़ है, वहीँ JioSaavn पर एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी मालिकाना हक़ रखते हैं।

लेकिन इन सब के बीच भले ही YouTube Music काफी तेजी से बढ़ता नज़र आ रहा है, लेकिन कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह ऐप अभी भी अमेरिका आधारित एक और म्यूजिक स्ट्रीमिंग ऐप Apple Music से थोड़ा पीछे हो सकता है।

लेकिन यह पता लगाने का कोई भी सटीक तरीका नहीं है, क्योंकि Apple Music अपने सब्सक्राइबर के आंकड़ों को जाहिर नहीं करता है।

बहरहाल! आपको बता दें फ़िलहाल भारत में उपयोगकर्ताओं के लिए 2 पेड YouTube वर्जन मौजूद हैं।पहला है YouTube Music, जो उपयोगकर्ताओं को म्यूजिक वीडियो, गानों और लाइव परफॉर्मेंस की एक बड़ी रेंज प्रदान करता है।

वहीँ दूसरा है YouTube Premium, जिसमें उपयोगकर्ताओं को अन्य एप्लिकेशन चलाने, ऑफ़लाइन डाउनलोड, YouTube Originals तक पहुंच और YouTube Music Premium और साथ ही अन्य ऐप खोलते हुए काम करने पर बैकएंड में YouTube के चलते रहने जैसी सेवा भी मिलती है।

हालाँकि इस बीच आपको बता दें भारत में YouTube Music का ऐड सपोर्टेड वर्जन मुफ़्त उपलब्ध है। वहीँ YouTube Music Premium में उपयोगकर्ताओं को प्रति माह 99 रूपये और YouTube Premium के लिए उपयोगकर्ताओं को प्रति माह 129 रूपये देने होते हैं।

दरसल इस बात में कोई शक नहीं है कि भारत में स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं की संख्या अभी और भी तेजी से बढ़ने वाली है और ऐसे में कंपनियां जल्द से जल्द अपने अपने मौजूदा आधार को मजबूत करने की दिशा में काम कर रही हैं।

विश्व स्तर की तुलना में सस्ती डेटा दरों और 1.3 बिलियन की आबादी के साथ, भारत इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों के लिए संभवनाओं से भरा एक बड़ा बाज़ार है।

और शायद इसलिए अमेरिका का Youtube Music या Apple Music हो या फ़िर चीन आधारित Bytedance का Resso या फ़िर Times Group व Reliance Jio सभी अपने अपने प्लेटफ़ॉर्म को तेजी से बढ़ाने की कोशिशें करते नज़र आ रहें हैं।

वहीँ इन सब के बीच YouTube को अपने मौजूदा 265 मिलियन के मजबूत उपयोगकर्ता आधार की बदौलत थोड़ी बढ़त अवश्य मिलती है, वह उपयोगकर्ता आधार जो मुफ़्त में वीडियो स्ट्रीमिंग सेवा का लुफ्त उठा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.