दुनिया के सबसे बड़े वेंचर कैपिटल फर्म में से एक Accel भारत में काफी तेजी से अपने निवेश को बढ़ाता नज़र आ रहा है। और अब इसका एक और ताज़ा उदाहरण सामने आया है। 

दरसल सिलिकॉन वैली आधारित इस फर्म ने भारत में अपने 6वें निवेश फंड के तौर पर अब $550 मिलियन का निवेश फंड बनाया है। खास यह है कि Accel हमेशा से भारत में शुरुआती स्तर के स्टार्टअप्स में रूचि लेने वालों में से एक माना जाता रहा है। 

आपको बता दें Accel ने भारत में 15 साल पहले अपने निवेश का सिलसिला शुरू किया था और अब तक यह देश में कुल $1 बिलियन डॉलर का निवेश कर चुका है। और इस नए फंड के ऐलान से जहाँ एक तरफ कंपनी खुद उत्साहित है वहीँ देश के स्टार्टअप इकोसिस्टम में भी एक सकारात्मक ऊर्जा दर्ज की जा रही है।   

इस दौरान भारत में Accel के पार्टनर आनंद डेनियल ने एक ऑनलाइन पोर्टल को दिए अपने इंटरव्यू में कहा कि कंपनी अपने इस फंड के साथ ‘सीड और शुरुआती स्तर’ के स्टार्टअप्स की ओर रुख करना जारी रखेगी।

हालाँकि उन्होनें यह भी कहा कि उनके निजी विचारों के अनुसार इस फंड का साइज़ और भी बड़ा होना चाहिए ताकि अधिक धन की आवश्यकता होने पर कंपनी अपने पोर्टफोलियो के फॉलो-ऑन राउंड में भी सक्रिय रूप से भाग ले सके।

इस बीच आपको यह भी बता दें कि हाल ही में ही Accel ने यूरोप और इज़राइल में इसी प्रकार से $575 मिलियन के फंड की घोषणा की है।

आनंद डेनियल ने कहा;

“हम उन कंपनियों में चुनिंदा रूप से निवेश करते हैं जिनमें बड़े पैमानें पर फैलने संबंधी संभवानाएं हों, जैसे Swiggy, UrbanClap, BlackStone और Bounce आदि।”

“इसके साथ ही हमें यह बताते हुए भी काफी ख़ुशी है कि हमनें इन स्टार्टअप्स में सीरीज बी और सीरीज सी राउंड में भी भाग लेते हुए इनके प्रसार में अहम भूमिका निभाई है।” 

इस बीच अन्य कई बाजारों की तरह भारत में भी Accel का ट्रैक रिकॉर्ड काफी प्रभावशाली रहा है। इसने ई-कॉमर्स फर्म Flipkart के सीड फाइनेंसिंग राउंड में भाग लिया था, जो उस वक़्त निवेश के पहले महज़ $4 मिलियन की वैल्यूएशन रखता था।

और आज हम सब जानते हैं कि Walmart ने पिछले साल Flipkart को $16 बिलियन में ख़रीदा था। अकेले इस डील में ही Accel को करीब $1 बिलियन का फायदा हुआ था। 

आपको बता दें Accel में कुल नौ साझेदार हैं, और भारत में कुल मिलाकर 50 से अधिक सदस्य। 

दिलचस्प रूप से Accel के पोर्टफोलियो में 85% स्टार्टअप में Accel ही उनका पहला संस्थागत निवेशक रहा है।

साथ ही कंपनी का दावा है कि उसके भारतीय पोर्टफोलियो में 120 में से 44 स्टार्टअप आज $100 मिलियन से अधिक की वैल्यूएशन रखते हैं।

Flipkart की $21 बिलियन की वैल्यूएशन के साथ ही Accel के पोर्टफोलियो में शामिल कुल कंपनियों की वैल्यूएशन $44 बिलियन के करीब हो जाती है।

दिलचस्प रूप से भारत में Accel का यह नया फंड ऐसे वक़्त में आया है जब देश के निवेश जगत में SoftBank और Prosus Ventures जैसे बड़े नाम काफी सक्रीय हो गयें हैं। और बेशक यह देश के स्टार्टअप इकोसिस्टम के लिए एक सुनहरा वक़्त है।   

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *